Harish Bhatt

Just another weblog

301 Posts

1595 comments

Harish Bhatt

Layout Artist- Inext

Sort by:

जरूरत सोच बदलने की

Posted On: 4 Sep, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (18 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

ये हौसला कैसे डिगे , ये आरज़ू कैसे रुके

Posted On: 22 Aug, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

sports mail में

0 Comment

जब जड़ों में पनपता हो भेदभाव

Posted On: 12 Aug, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Social Issues social issues में

0 Comment

पानी न बिजली फिर भी पहाड़ से लगाव

Posted On: 27 Jul, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

ये कहाँ आ गए हम

Posted On: 16 Jul, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 1.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

कविता में

0 Comment

इंसानी जिद में दफन हो गए पेड़

Posted On: 7 Jun, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

social issues में

0 Comment

…जब जड़ों में पनपता हो भेदभाव

Posted On: 26 May, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Social Issues में

0 Comment

पहाड़ जैसे हौसले को तो नेताओं ने रूलाया

Posted On: 3 May, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Social Issues में

0 Comment

मुसीबत का नाम जिंदगी

Posted On: 6 Apr, 2016  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Social Issues में

0 Comment

Page 1 of 3112345»102030...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: reena reena

के द्वारा:

के द्वारा: arvindsinghania arvindsinghania

के द्वारा: surabhi surabhi

के द्वारा: surabhi surabhi

के द्वारा:

के द्वारा:

6 MONTH CONTINUE HUMAN RIGHT VIOLATION NHRC AND SHRC,INDIA HAVE NOT TAKEN ACTION PROBLEM TILL NOW CONTINUE ,INDIA COUNTRY MEDIA HAVE NOT FLASH NEWS I MANTU KUMAR SATYAM, FATHER NAME-SHIV PRSAD MANDAL,RELIGION -HINDU ,CATEGORY -O.B.C.,CASTE-SUNDI,SEX-MALE,AGE-29 Y, Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL,AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, FORNT BAIDYNATH TRADING/ HARDWARE,Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN/SARATH MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA AND MANY OTHER BOOKS VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY,JHARKHAND,NUMBER-MQS5572490,AADHAR CARD NO-310966907373) STUDENT - POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE) Matter is After below paragraph concerned of poverty in india blog concentrate of poverty remove of HINDU religion of o.b.c weaker section ,S.C and S.T publish of many news channel/paper of internet mode like blog,comment, google plus and facebook ( also facebook of loksbha ,INDIA).After then 200- 300 people of HINDU religion genral castes( brhaman ,bhumihar and rajput)of LOCAL CITY DEOGHAR,DIST-DEOGHAR,JHARKHAND-814112 I well known by face and address of the people have mixed accidental drug effect on body and mind ,narcotics drug and other many type side effect drug in MY AND MY WHOLE FAMILY (FATHER,MOTHER AND BROTHER) food and water from DATE-30/07/2013 problem till now continue. they people threaten and victim to me. THEY PEOPLE THREATEN BY WEAPON TO ME MURDER WITH MY WHOLE FAMILY . .ALSO THREATEN TO ME ACCIDENT. In the matter I have complain on date -23/09/2013 DATE-27/09/2013, DATE- 06/10/2013 by e-mail TO CHAIRMAIN,National Human Rights Commission New Delhi, India .Also complain it on date -19/10/2013,date-24/10/2013 jharkhand state legal service authority ,ranchi,jharkhand,for freelegal aid.also complain it on date-6/10/2013 for free legal aid D.L.S.A DEOGHAR,DIST-DEOGHAR,JHARKHAND-814112.problem till now continue. also I complaint it on 28/11/2013 on state human right commission ,ranchi, jharkhand problem till now continue. They work like as a samant sena. ALSO COMPLAIN IT ON NATIONAL HUMAN RIGHT COMMISSION INDIA AND STATE HUMAN RIGHT COMMISSION ,JHARKHAND ON DATE 07/03/2014 AND 08/03/2014.PROBLEM TILL NOW CONTINUE AS ABOVE MENTION. Also I publish the some book in social empowerment IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES .S.C/S.T.O.BC WEAKER SECTIONS SOCIAL EMPOWERMENT matter and yoga from the date-2/02/2014 on amazon kindle(COUNTRY- U.S AMERICA , CREATE SPACE(,COUNTRY- U.S AMERICA), amazon.in (country -INDIA)and amazon.com COUNTRY- (U.S AMERICA)threaten to me above mention for REMOVE the book from publishers company. MY BOOKS-1. INDIA, HINDU RELIGION INDIVIDUALCASTES, O.B.C WEAKERSECTIONS,S.C/S.T POVERTY SOLUTION ,BUSSINESS, INDUSTRY,TENDER VERY-VERY BIG ROLE JOIN INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFESSION ISBN-10: 149593926X ISBN-13: 978-1495939266 ASIN: B00IRVUG8U Publisher: CreateSpace Independent Publishing Platform; 1 edition (February 13, 2014) 2. Powerful 14 yoga meditation pose / powerful 15dynamic yoga pose / yoga Gyan mudra, prayer mudra side effect/ complete path of yoga Publisher: CREATE SPACE; 1 edition (27 February 2014) Sold by: Amazon Digital Services, Inc. Language: English ASIN: B00IPCFMGW ISBN-10: 1496074521 ISBN-13: 978-1496074522 many other book related topics

के द्वारा:

INDIA ANY STATE COMMUNIST GOVERNMENT AS REFERENCE OF HINDU RELIGION ORIGINAL KING GENERAL CASTES, , THE ORIGINAL KING HINDU RELIGION GENERAL CASTES DUE TO WHICH CASTES HAVE SUFFICIENT NUMBER OF L.L.B/L.L.M /M.B.B.S/M.D/M.S PROFESSION AS REFERENCE OF HINDU RELIGION BY-MANTU KUMAR SATYAM ,FATHER NAME-SHIV PRSAD MANDAL,RELIGION HINDU ,CATEGORY O.B.C (WEAKER SECTIONS).,CASTE-SUNDI,SEX-MALE,AGE-29 Y,ADD -S/O SHIV PRSAD MANDAL,AIRCEL , FRONT BADYNATH HARDWARE, aircel mobile tower building, choice emporium shop building. Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN-MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112, COUNTRY-INDIA . VOTER ID CARD DETAIL- ASSEMBELY,JHARKHAND,NUMBER-MQS5572490, INDIA GOVT. AADHAR CARD NO-310966907373, INDIA GOVERNMENT AADHAR CARD ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184, DATE-10/12/2012, TIME-13: 43: 52) EDUCATION---1.MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK,INDIA , 2. STUDENT POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14 COUNTRY INDIA ANY STATE COMMUNIST GOVERNMENT IS ORIGINAL KING OF HINDU RELIGION GENERAL CASTES DUE TO WHICH CASTES HAVE SUFFICIENT NUMBER OF LAWYER AND M.B.B.S DEGREE/PROFESSION . HINDU RELIGION OTHER HINDU RELIGION ANY CASTES BACKWARD CASTES /S.C/S.T /O.BC /WHICH CASTES HAVE NO SUFFICIENT NUMBER/GOOD NUMBER LAWYER /M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE . HINDU RELIGION BACKWARD CASTES /S.C/S.T /O.BC /WHICH CASTES HAVE NO SUFFICIENT NUMBER/GOOD NUMBER LAWYER /M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE GOES IN MORE WORST OTHER THEN ANY COMMUNIST GOVERNMENT IN OTHER STATE WHERE NOT COMMUNIST GOVERNMENT.ITS HAVE TO UNDERSTAND BY WEST BENGAL COMMUNIST GOVERNMENT. DUE TO IN ANY DEMOCRATIC GOVERNMENT HINDU RELIGION WHICH CASTES SUFFICIENT NUMBER OF L..L.B /L.L.M AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE /PROFESSION MORE COMPLEX PROBLEM CREATE IN DEVELOPMENT OF OPPOSE HINDU RELIGION WHICH CASTES NOT HAVE SUFFICIENT NUMBER/GOOD NUMBER OF L..L.B /L.L.M AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE /PROFESSION

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: vjpr1 vjpr1

के द्वारा:

के द्वारा: deepakbijnory deepakbijnory

के द्वारा: drvandnasharma drvandnasharma

के द्वारा: rushabhshukla rushabhshukla

के द्वारा:

आदरणीय भट्ट जी,सादर अभिवादन , "शूद्र, गंवार, ढोल, पशु, नारी सकल ताड़ना के अधिकारी" हमारे विचार से ये ५ नही तीन हैं क्यूंकि पांचो शब्द संज्ञा नही हैं |इसमें ३ शब्द संज्ञा और २ शब्द विशेषण हैं |पहला शब्द ढोल ,संज्ञा हैं ....एक वाद्य यन्त्र का नाम हैं |इसके बाद अर्धविराम लगाएं ,दूसरा शब्द गंवार संज्ञा नही,विशेषण हैं जों शुद्र के लिए प्रयोग किया गया हैं और व्याकरण के इस सिद्धांत को आप भी जानते होंगे कि विशेषण का प्रयोग हमेशा संज्ञा से पहले किया जाता हैं जैसे मीठा फल,काला घोडा ,आदि .....................तो गंवार शब्द किसी का नाम नही बल्कि विशेषण हैं अतः इस शब्द के बाद अर्द्ध विराम न लगाये |यह शब्द शुद्र के लिए प्रयोग किया गया हैं अर्थात गंवार शूद्र |शूद्र का अर्थ होता हैं सेवक तो जों सेवक गंवार हों उसे ताडना देना उचित हैं |"ताड़ने बह्वोगुनः"के अनुसार ताडना के कई गुण होते हैं |चौथा शब्द पशु भी संज्ञा नही ,विशेषण हैं और यह नारी के लिए प्रयुक्त हैं ....और जों नारी ,नारीत्व के गुणों से युक्त ना हों ,पशु-नारी हों जैसे कि नरपशु भी होते हैं तो पशुता करने वाली ऐसी नारी भी ताड़ना कि पात्रा हैं .....................समस्त नारी वर्ग या प्रत्येक नारी नही {अजय}

के द्वारा: अजय यादव अजय यादव

परिवार में मुखियाओं का महत्व खत्म : समाज एक आदमी नही बनता उसके लिए परिवारों की जरूरत होती है ! एक आदमी से परिवार बनता है एक परिवार से एक गाँव और फिर एक समाज बनता है !पहले संयुक्त परिवार होते थे और परिवार के मुखिया उच्च विचारों के होते थे !परिवारों में बहुत अनुशासन होता था एक दुसरे के प्रति प्यार त्याग ,और समर्पण की भावना होती थी !लेकिन जैसे -जैसे परिवार के मुखिया बोग विलासिता में पड़ने लगे उनका वर्जस्व खत्म होने लगा और परिवार बिखरने लगे और समाज में नई नई समस्याएँ जन्म लेने लगी !जरूरत है सामाजिक सोच बदलने की गुरुओ , महिलों,बुजुर्गो ,और बच्चो का सम्मान देना होगा हर स्तर पर मन का लालच त्यागना होगा.....................सुदेश पोसवाल

के द्वारा:

हरीश जी, जब आधे से अधिक लोगों को आजादी की कीमत न पता है। अपने अधिकारों  और कर्तव्यों को ज्ञान न हो। जब वोट जाति धर्म के आधार पर तथा दारू एवं धन के एवज में बेच दिया जाता हो, तो आजादी के क्या मायने। जब संसद में अपराधी एवं  भ्रष्ट तथा धन के बल पर लोग पहुँच जाते हो तो हम कैसे इसे पूर्ण आजादी कह सकते  हैं। जिस संसद में हिन्दुओं और मुसलमानों के लिये अलग से कानून बन जाते हो। क्या हम उसे दुनियाँ की सबसे अच्छी संसद कर सकते हैं। जहाँ फैसले जनता या जनता के चुने प्रतिनिधि नहीं, अपितु पार्टी के हाई कमान करते हों, क्या वहाँ आजादी सुरक्षित रह सकती है? जाकर देखिये कभी आदिवासी इलाकों में फिर निर्णय कीजिये की भारत पूर्णतः आजाद है या नहीं। इस संबंध में लिखने को बहुत कुछ है। यदि लगातार लिखने बैठा तो  एक साथ कई पोस्टें बन जायेंगीं।

के द्वारा: dineshaastik dineshaastik

के द्वारा: omprakashyadav omprakashyadav

के द्वारा: omprakashyadav omprakashyadav

के द्वारा: yamunapathak yamunapathak

के द्वारा:

आप लिखना तो चाहते हैं इसमें कोई दो राय नहीं.. क्योंकि आप अक्सर लिखते रहते हैं... ... मगर कुछ मिस हो रहा है आपके लिखने में.... कुछ विचारों में भटकाव या अवसाद सा प्रतीत हो रहा है... कहीं कुछ स्थिर नहीं हैं... आप लिखने में कोई रिसर्च यानि अनुसन्धान नहीं करते.... आपने कहा की आपके पास साधन का अभाव है... मुझे नहीं लगता ...ये तो आपको देखना है.. आस पास नजर डालिए .... ये सच है की अपने जिन्दा रहने का अहसास हर किसी को कराते रहना चाहिए.... एक बंगाली फ़िल्मकार ने कहा है.. की ये फिल्में, कहानियां, किस्से, ब्लॉग, या पत्रकारिता एक shock -u -mentary यानि एक झटका देने वाले दस्तावेज़ की तरह है... आदमी को अहसास दिलाने के लिए की वो जिन्दा है... हम इन चीजों का सहारा लेते हैं... हरीश जी मैं अक्सर आपके ब्लॉग पढता रहता हूँ मगर बहुत दिन सी आप कुछ नया नहीं लिख रहे हैं... आजकल एक फिल्म भी करोड़ों की बनती है अगर उसमें कुछ नया और अलग यानि चेतना को जगाने वाली बात नहीं होती तो वो फिल्म भी फ्लाप जाती है... मै आपको यही कहूँगा की अपनी निराशा वादी मानसिकता से निकलिए ... औरो को भी इन सबसे उबारिये.... हमारी टिपण्णी पर प्रतिक्रिया जरूर दीजिये.....

के द्वारा:

के द्वारा: phoolsingh phoolsingh

hareeshjee,नमस्कार इस सावन के महीने में आपकी लेखनी के रवि को नैराश्य की बदलियों ने ढकना शुरू कर दिया है ऐसा क्यों?सूर्य प्रत्येक दिन निकलता है,अपनी उन्ही रश्मियों के साथ पर कभी नहीं सोचता कि ये रश्मियाँ किन तक पहुँच रही हैं.अब जो स्वयं को एक अँधेरे कमरे में बंद कर चुके हैं उसके लिए सूर्य की रश्मि नहीं पहुँच पा रही इसमें सूर्य का दोष नहीं ;दोष उन लोगों का है जो उसे लेना नहीं चाहते और इस बेपरवाही में स्वयं का ही नुकसान कर बैठते हैं.आपके कई ब्लॉग मैंने पढ़े हैं उसमें भी सूर्य सी प्रखरता है.जो इसे ना पढ़े उनकी मर्जी,आप बस लिखते रहिये. इस मंच के सहयोगी आप को नीरसता कभी नहीं देंगे ,यकीन ना हो तो ध्यान से उनमें से कईयों के ब्लॉग पढ़ लीजिये.समाज को सुधारने का मकसद ही क्यों लेना ?क्या इतना काफी नहीं कि हम,हमारा परिवार,हमारे आस-पास का वातावरण सुधर रहा है और जब सब ऐसा सोचने लगेंगे तो यह व्यक्तिगत सोच ही सामूहिक कल्याण खुद-ब -खुद कर जायेगी. मैं जल्द ही इस नैराश्य की बदली को छंटते देखना पसंद करूंगी. धन्यवाद

के द्वारा: yamunapathak yamunapathak

डेढ़ साल की मासूम पर किए बेइंतहा जुल्म Jun 05, 01:41 pm बताएं इंदौर। पिछले दिनों एक नन्ही बच्ची, जिसे मीडिया ने बेबी फलक नाम दिया था, पर हुए जुल्मो-सितम ने देखने-सुनने वालों के दिल दहला दिए थे। चर्चा में थी। ऐसा ही एक और मामला सामने आया है। एक और बच्ची उसी तरह की दरिंदगी का शिकार बनी। मामला मध्यप्रदेश के इंदौर का है, जहां डेढ़ साल की मासूम बच्ची को उसकी मा के प्रेमी ने अधमरा कर दिया।बच्ची को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां वह जीवन और मौत के बीच संघर्ष कर रही है। बच्ची के शरीर पर सिगरेट से दागे जाने के 11 निशान हैं। उसके हाथों में कई जगह फ्रैक्चर है। बच्ची को उसकी मा जरीना हॉस्पिटल लेकर आई। जरीना ने बताया कि उसके प्रेमी ने ही बच्ची का यह हाल बनाया है। वह उस पर कई हफ्तों से जुल्म ढा रहा था। जरीना अपने तीन बच्चों को लेकर प्रेमी वाहिद के साथ अजमेर भाग गई थी। वाहिद जरीना के बच्चों को पसंद नहीं करता था। उसने उन्हें सेक्स रैकेट में भी धकेलने की कोशिश की। जरीना वाहिद से पीछा छुड़ाकर इंदौर भाग आई और बच्ची को अस्पताल में दाखिल कराया। वाहिद को गिरफ्तार कर लिया गया है। वह अपना जुर्म कबूल कर चुका है। पेड औऱ बचचे हमारी धरॊहर है इनकॊ पीडा देने बालॊ कॊ कडी से कडी और दुसकर सजा दी जानी चािहए

के द्वारा:

जैसे चल रहा है चलने दो | मृतप्रायः का मतलब है की आप है ही नहीं | जिंदगी जिन्दादिली का नाम है मुर्दा दिल क्या खाक जीते हैं | कोई आपको अधिकार या साधन क्यूं सौंप देगा ? अपने अधिकारों के लिए खुद लड़े | सीखने में कोई बुराई नहीं आदमी हर पल सीखता है | परन्तु जो सीखा हुआ है उसको कार्य शेत्र में लाओ | अच्छे कर्मों के बिना अच्छा शरीर और ज्ञान बेकार है | चाणक्य कहते है - कलि शयानो भवति. संझिहनास्तु द्वापरा, उतिस्तम सा त्रेता भवति, कृतम स्पध्यते चरण | जो सोया हुआ है और जो अमोध - प्रमोद में खोया हुआ है वह भी सोया हुआ है | कलियुगी व्यक्ति सोये हुए हैं | आज करे सो कल, कल करे सो परसों, इतनी जल्दी क्या पड़ी है जब जीना है बरसों | इनमें से भी कुछ को अपने कर्त्तव्य का अहसाह होता है वोह द्वापर युगी, कुछ कार्य शेत्र में आने के लिए हाँ भर देते हैं वोह त्रेता युगी, और जिनके कदम कार्य करने चल पड़ते हैं वोह सत्य युगी अर्थात वास्तविक पुरुष होते हैं |

के द्वारा:

के द्वारा: sapnamanglik sapnamanglik

के द्वारा: nishamittal nishamittal

आदरणीय सर ,..सादर प्रणाम जब होता हो हर काम प्यार से तब क्यों रहा जाए अकड़ के न जाने कब किस पल चले जाए जहां से लोग कहते है तुम जियो हजारों साल मैं मानता हूं हम जिए कुछ ही साल पर याद रखें लोग हजारों साल........बहुत अच्छा सन्देश देती रचना ,..जीवन में कभी कभी जकडन भी हो जाती है,.. हमारी जकडन खुद के प्रति होती है जो बाहर से अकड दिखाई देती है ,..जैसे खुद के प्रति हुआ क्रोध भी अभिव्यक्त होता है ,.. इसे समझने में हम अक्सर गलती करते हैं ,.एक गलती आगे दूसरी गलती का रास्ता खोलती है ,...हम इन गलतिओं को दूर कर निश्चित ही संसार में कुछ सार्थक काम कर सकते हैं ,.... सरल शब्दों में बहुत सुन्दर सन्देश देने के लिए हार्दिक आभार आपका ,..सादर

के द्वारा:

के द्वारा:

डेढ़ साल की मासूम पर किए बेइंतहा जुल्म Jun 05, 01:41 pm बताएं इंदौर। पिछले दिनों एक नन्ही बच्ची, जिसे मीडिया ने बेबी फलक नाम दिया था, पर हुए जुल्मो-सितम ने देखने-सुनने वालों के दिल दहला दिए थे। चर्चा में थी। ऐसा ही एक और मामला सामने आया है। एक और बच्ची उसी तरह की दरिंदगी का शिकार बनी। मामला मध्यप्रदेश के इंदौर का है, जहां डेढ़ साल की मासूम बच्ची को उसकी मा के प्रेमी ने अधमरा कर दिया।बच्ची को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां वह जीवन और मौत के बीच संघर्ष कर रही है। बच्ची के शरीर पर सिगरेट से दागे जाने के 11 निशान हैं। उसके हाथों में कई जगह फ्रैक्चर है। बच्ची को उसकी मा जरीना हॉस्पिटल लेकर आई। जरीना ने बताया कि उसके प्रेमी ने ही बच्ची का यह हाल बनाया है। वह उस पर कई हफ्तों से जुल्म ढा रहा था। जरीना अपने तीन बच्चों को लेकर प्रेमी वाहिद के साथ अजमेर भाग गई थी। वाहिद जरीना के बच्चों को पसंद नहीं करता था। उसने उन्हें सेक्स रैकेट में भी धकेलने की कोशिश की। जरीना वाहिद से पीछा छुड़ाकर इंदौर भाग आई और बच्ची को अस्पताल में दाखिल कराया। वाहिद को गिरफ्तार कर लिया गया है। वह अपना जुर्म कबूल कर चुका है। पेड औऱ बचचे हमारी धरॊहर है इनकॊ पीडा देने बालॊ कॊ कडी से कडी और दुसकर सजा दी जानी चािहए

के द्वारा:

के द्वारा: Muneesh Parichit Muneesh Parichit

के द्वारा:

maa ek esa shbd jo aatma me matritwa ki bhawna bhar deta he ..maa jesa koi nhi he vo dhra he uski sahanshakti atulniya he.tabhi to bhagwan ne bhi ek bachche ko janm dene ke liye aourat ko hi chuna he yah karya or koi nhi kar sakta ..maa khud taklif sahkar ek bachche ko janm deti he ,,ek nanhi jaan ko jeevandan deti he jo ye duniya dekhta he..khud apni neend khokar bhachche ko sulati he ,khud bhukhi rahkar bachche ko khilati he..maa ka koi mol nahi he vo to anmol he .jo ek maa kar sakti he vo dusra koi nhi kar sakta.vah atulniya he..kahte he ki jab ek aourat bachche ko janm deti he to apna kafan sath me rakhkar deti he..socho kitna kathin karya he ye ..jo koi nhi kar sakta..maa pyaar ki murti he..daya ka sagar he...shmasheel he...maa sab kuch he..kahte he ki gunge (jab bachche bolna nhi janta) ki bhasha maa hi samajh sakti he ..bachche ko kab bhukh lagi he ya pyaas lagi he ya use kya chahiye...vo bachche ke liye sab kuch kar sakti he jo shayd hi koi or kar sake...bina kisi apeksha ke vo apni aoulad ke liye sab kuch karti he..use to ye bhi nhi pta hota ki yhi bachcha bda hokar use sukh dega ya dukh dega..bilkul niswarth bhawna se vo bachche ko palti he..isiliye hme maa ke is upkar nhi bhulna chahiye ki jisne tumhe ye duniya dikhai is duniya me lai..us duniya ki mayavi chizo ke liye tum apni janni ko bhul jao...uska upkar to tum markar bhi nhi bhula sakte ,isiliye use sukh to aadar do.pyaar do..uske aagyakari bno,jiski vo haqdar he...vo tumse sona-chandi nhi mangti kewal tumhare dil me apne liye thodi si jagah mangti he...vo bhi agar tum de sako to..tumhare sukh ke liye to vo ise bhi chod degi..

के द्वारा:

दिन हुआ है तो रात भी होगी, हो मत उदास कभी तो बात भी होगी, इतने प्यार से दोस्ती की है खुदा की कसम जिंदगी रही तो मुलाकात भी होगी. कोशिश कीजिए हमें याद करने की लम्हे तो अपने आप ही मिल जायेंगे तमन्ना कीजिए हमें मिलने की बहाने तो अपने आप ही मिल जायेंगे . महक दोस्ती की इश्क से कम नहीं होती इश्क से ज़िन्दगी ख़तम नहीं होती अगर साथ हो ज़िन्दगी में अच्छे दोस्त का तो ज़िन्दगी जन्नत से कम नहीं होती सितारों के बीच से चुराया है आपको दिल से अपना दोस्त बनाया है आपको इस दिल का ख्याल रखना क्योंकि इस दिल के कोने में बसाया है आपको . अपनी ज़िन्दगी में मुझे शरिख समझना कोई गम आये तो करीब समझना दे देंगे मुस्कराहट आंसुओं के बदले मगर हजारों दोस्तो में अज़ीज़ समझना .. हर दुआ काबुल नहीं होती , हर आरजू पूरी नहीं होती , जिन्हें आप जैसे दोस्त का साथ मिले ,

के द्वारा:

के द्वारा: yamunapathak yamunapathak

के द्वारा:

के द्वारा: azimshankhan azimshankhan

के द्वारा:

आदरणीय हरीश जी सादर प्रणाम, आपका लेख पढ़ा... आपने उत्तराखंड की राजनितिक व्यथा को बहुत अच्छे शब्दों में पेश किया... मैं भी पूरे समय उत्तराखंड का वोट परिणाम के दौरान टीवी से चिपका था... और खंडूरी की हार से मैं अचंभित हुआ..वास्तव में,काफी झटके वाली बात है उत्तराखंड के लिए... अफ़सोस होता है ये देखकर जब लोग एक ईमानदार इंसान को चुनने के बजाय किसी दूसरे को चुनते है.. फिर पांच साल वही रोना लगाते है ..भ्रष्टाचार, बेईमानी और लालफीताशाही का.... इसमें कोई दो राय नहीं की इस हार में भाजपा की भितरघात और कमजोर रणनीति जिम्मेदार है... जिस तरह से निशंक की साढ़े चार साल की सरकार भ्रष्टाचार से लिप्त रही ..उससे यही लगता था की दुबारा भाजपा सत्ता में वापस नहीं आएगी मगर खंडूरी के कुर्सी सँभालने के बाद स्थिति थोडा बदल गयी.. ये जानकार वास्तव में अचम्भा महसूस होता है जो राज्य में भाजपा के लिए तारणहार की तरह आया था, वही खुद चुनाव में हार गया ... ये बात जानकर भी आश्चर्य होता है की खंडूरी को इस बात की आशंका पहले से ही थी मगर फिर भी उन्होंने कोई ठोस कदम नहीं उठाया... इस बात में कोई दो राय नहीं की खंडूरी एक ईमानदार आदमी है ..मगर साथ में ये बात भी उतनी ही सच है की उतने जमीन से जुड़े नहीं जितना उनसे उम्मीद की जाती है.. मेजर जनरल खंडूरी को एक बात जरूर महसूस करनी चाहिए की राजनीती और मिलट्री में थोडा नहीं काफी अंतर है... मिलट्री में छल प्रपंच नहीं चलते मगर राजनीती में छल प्रपंच बहुत चलता है... मैं ये नहीं कह रहा की उन्हें छल प्रपंच करना चाहिए.. मगर उन्हें दूसरे के छल प्रपंच से बचना चाहिए... इस बात के लिए हमेशा सतर्क रहना चाहिए कि उनके विरोधी क्या करने वाले है... वैसे भी राजनीति में या तो "चालाक ईमानदार लोग चलते है या फिर चालाक बेईमान"... दूसरी बात, उन्हें लोग से जुड़ने कि कोशिश करनी चाहिए... जहाँ तक मैंने अपने कोटद्वार के करीबी लोगों से सुना है ...वो किसी को अपने पास आसानी से फटकने नहीं देते और और आम आदमियों के साथ भी बहुत टाईट से पेश आते हैं... जल्दी किसी को समय नहीं देते मिलने का... ये बातें उन्हें जमीन से अलग करती हैं... वही दूसरी ओर जो उनके विरूद्ध चुनाव जीते हैं सुरेन्द्र सिंह नेगी, वह लोगो के काफी करीब है.. हर समय जनता से रूबरू रहते है.. शायद उनकी ये काबिलियत है.. ये बातें कितनी सत्य है मुझे नहीं मालूम नहीं... मगर, एक उत्तराखंडी निवासी होने नाते मैं भी चाहता हूँ एक उत्तराखंड समृद्ध शील और उन्नत प्रदेश बने ... वहां कि "जवानी और पानी" वही के काम आये.. अपनी हार भाजपा के रणनीतिकारों को गहन विश्लेषण करना चाहिए और कठोर कदम उठाने चाहिए... कांग्रेस भी कोई दूध कि धुली पार्टी नहीं है.. जनता को उनसे कोई ख़ास उम्मीद नहीं लगनी चाहिए ...भ्रष्टाचार में कांग्रेस का कोई सानी नहीं है... भाजपा के साथ उत्तराखंड की जनता का एक अलग भावनात्मक सम्बन्ध था क्योंकि इसी पार्टी ने उत्तराखंड को एक अलग राज्य स्थापित करने में गहरा सहयोग प्रदान किया था... मगर इसका मतलब ये नहीं कि वो जनता को लूटे और भ्रष्टाचार के नए आयाम स्थापित करे.. ये बात भाजपा के लोगो समझनी चाहिए... खैर बातें तो और भी हैं लिखने को ...फिलहाल इतना ही... साधुवाद

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: D33P D33P

प्रिय हरीश भाई बहुत ही यथार्थ परक और सटीक लेख आप का .... कुछ सक्षम, प्रभावशाली व्यक्तियों का जीवन साधारण जनता से ज्यादा कीमती हो गया है, तभी तो वह अपने को सुरक्षा कर्मियों के घेरे में सुरक्षित समझ किसी के लिए कुछ भी कह देते है। उनके बयानों के फलस्वरूप जब धमाके होते है, तो मारे जाते है निर्दोष प्राणी। हमारा सिस्टम इतना चरमरा गया है कि जैसे खटारा गाडिया, जो कभी भी कही पर भी दुर्घटनाग्रस्त हो जाती है और फिर एक खबर आती है फलां दुर्घटना या बम धमाकों में इतने मरे। जेब भर जाए सारा कुछ कानून के हिसाब से सही हो जाता है ...उनको तो छींके भी आती हैं तो लन्दन जा के इलाज कराना होता है .. जय श्री राधे भ्रमर ५

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

भाई हरीश जी पांच राज्यों में होने वाले विधान सभा चुनाव के मद्देनज़र सभी पार्टियों ने अपनी अपने पुराने ट्रैक पर लौट आये हैं! हिसार चुनाव के परिणाम आने के बाद नेताओं ने अपने अपने जातिवाद पर आधारित वोटो की राजनीती की दोहाई देते हुए नज़र आने लगे, पर देखना यही है की क्या अब भी जनता जातिवाद के मोह में जकड़ी हुई है | अन्ना जी द्वारा भ्रष्टाचार के खिलाफ चलाये गए आन्दोलन का माहौल का असर जब कांग्रेस पर दिखने लगा तो अब अन्ना टीम पर बारी बारी हमला हो रहा है| इस वक्त विरोधी भ्रष्टाचारी गुट का बस एक ही मकसद की अन्ना टीम पर हमला करके उनको और उनके मनोबल को तोड़ना| लेकिन मेरे हिसाब से यह लोग इतने से संतुस्ट नहीं होंगे कुछ फासिस्टवादी ताकते और उनके आड़ में दुसरे लोग भी चुनाव आने के समय अन्ना फैक्टर से धेयाँन हटाने के लिए आगजनी और माहौल को बिगड़ने की भी कोशिस करेंगे| पर यह तो आश्वस्त है की अन्ना की भ्रष्टाचार हटाओ निति के माहौल में उत्तर प्रदेश में मंत्रियों की बलि की लिस्ट बन गयी है तो दुसरे ओर तिहाड़ जेल की रौनक भी बढ़ गयी है| लेकिन सवाल अब यह उठ रहा है की कुछ समय अन्ना के साथ पुरे देश में खड़े युआ की सोच अचानक कैसे बदल गयी क्या लोग राजनितिक पार्टियों की मंशा को नहीं समझ पा रहे हैं? मुझे तो कभी कभी यह लगने लगता है की कहीं ये देश के गद्दार सीमा पार या काश्मीर में अन्ना टीम की सुपारी न दे दे| जन्लूक्पाल बिल पर संसद में चर्चा करने के बाद संसद की गरिमा की बात करने वाले यह भी भूल गयी की वोह संसद में सपथ भी लिये थे| खैर जनता देखती रहे अभी और लोग बाके है कुछ दिन में और भी हमले होने हैं और देश में जो कुछ भी उठा पटक हो रही है वोह सिर्फ नेता करा रहे हैं और कोई दूसरा नहीं|

के द्वारा:

साहब क्या साहब आप भूल गये, विपक्ष के कारण संसद का पिछला एक पूरा सत्र बेकार गया, कुछ काम नही हुआ । वो छुट्टी मनाना नही चाहते थे । यही भ्रष्टाचार का ही मामला था । तब अन्ना नही थे । लोग विपक्ष को ही दोष देते थे की संसद चलने नही दी । अप केहते हो विपक्ष ने कुछ नही किया । निर्दलीय प्रत्याशि अगर जीतता है तो क्या वो गैर कानूनी है ? निर्दलिय ही अपने दिल का राजा होता है । किसी को पूछने नही जाना पडता उसे, क्या बोलना है क्या करना है । पक्षवाले तो अपने आलाकमान के गुलाम होते हैं , ये लोकशाही की विडंबना ही है, सांसद को बाथरूम भी जाना होता है तो छोटी उंगली दिखानी पडती है, जाउं की नही । किंगमेकर कौन बनेगा वो तो अन्ना जब अपना नया मुद्दा उठायेंगे तब मालुम पडेगा । आप की बात में दम है । किंग मेकर तो जनता को ही बनना है । अगले चुनाव आते आते शायद हमे मालुम पड जायेगा, उनका चुनाव सुधार क्या है और उसे माना जाता है या नही ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

मेरे विचार से अन्ना जी के बयान से भ्रमित होने की जरूरत नहीं है और हर समझदार जो किसी पार्टी के आईने से नहीं देखेगा वोह इस बात से भ्रमित नहीं होगा| अन्ना जी तो सिर्फ कांग्रेस को जगा रहे हैं आज कांग्रेस की जगह पैर बीजेपी होती तो उसका भी यही हाल होता बीजेपी का नकारात्मक पॉइंट है आर एस एस से गढ़जोर मानो एक सिक्के के दो पहलू | हिसार में अन्ना की टीम द्वारा जो कुछ हुआ वोह सिर्फ कांग्रेस ही नहीं सत्ता पक्ष की हर एक पार्टी के लिए एक नमूना है| प्रशांत भूषण ने जो कुछ कहा वोह उनकी सोच थी फर्क इतना है की उनकी देश में एक पहचान है| इस लिये मामला हाई लाइट हो गया| काश्मीर में जो हाल है उसका अंदाजा वहाँ रह कर लगाया जा सकता है और उस समस्या का हल निकला जा सकता है ना की किसी दुसरे को दे कर | उदहारण के तौर पर अगर मुख़्तार अब्बास नकवी, अशोक सिंघल, उमा भारती, जैसे लोगों को अगर कहा जाए की आप उत्तर प्रदेश के मउ जिले से विधान सभा का चुनाव जीत कर देखाए| और ठाकरे बंधू बिहार में चुनाव जीत कर देखाए जो के असंभव है|देश में सभी रास्ट्रीय पार्टियां अपनी अपनी सत्ता चाहती है आजादी के बाद से कोई भी सत्ता वाली पार्टी ने भरस्ताचार को जड़ से मिटाने का अभियान नहीं चलाया| अब्दुल करीम तेलगी मामले में भी कुल १८ राज्यों विधायक और मंत्री फंसते नज़र आये| लेकिन जेल में सिर्फ एक आदमी गया| नेता देश को अभी और बुरे मोड़ पर ले जायेंगे| अभी तो सिर्फ अभियान है के अन्ना टीम में शीत कालीन संसद सत्र से पहले फूट डाली जाई| वैसे शीत कालीन सत्र में अगर जन्लोक्पाल बिल पास नहीं होती है तो इस में कांग्रेस के साथ साथ बीजेपी बीएसपी सपा के साथ अन्य पार्टियों को लाभ होगा|

के द्वारा:

के द्वारा: manoranjanthakur manoranjanthakur

देश के लिए संभालने का समय, झकझोरने की बेला भ्रष्टाचार को लेकर पिछले दिनों काफी उथल-पुथल दिखाई दी. सरकार और राजनीतिक दल ऊहापोह में नज़र आये. जिन लोगों ने आपातकाल के समय 'जयप्रकाश आन्दोलन' को नहीं देखा, उन्होंने उसी तरह के 'अन्ना हजारे' के आन्दोलन को देखा. काफी समय से यह अनुभव हो रहा था कि इस देश में गलत कामों को रोकने वाला कोई नहीं है और न ही भ्रष्टाचार और कदाचार को लेकर राष्ट्रीय बहस या आन्दोलन शायद ही खड़ा करने का साहस कोई करे. अन्ना हजारे ने इस मिथक को तोड़ने का गंभीर और आशाजनक साहस किया गांधीगिरी के सहारे. आन्दोलन खड़ा करने की कोशिश बाबा रामदेव ने भी की, लेकिन उनके आन्दोलन को पंचर कर दिया सरकार की चतुराई ने. कोशिश तो अन्ना हजारे को भी आन्दोलन से बेदखल करने की रही, लेकिन उनकी रणनीति के आगे सत्ता के रणनीतिकारों की बिसात जम नहीं पाई. उडती चिड़िया को पहचाननेवाले नेता जनता का आक्रोश नहीं समझ पाए, लेकिन जनता ये समझाने में कामयाब हुई कि जन-प्रतातिनिधियों को जनता के प्रतिनिधि होने के नाते उनको जो आवाज समझ नहीं आई, उसको अन्ना ने समझा दिया, उन्ही की भाषा में. कहा जाता है की कोई भी आन्दोलन तभी सफल होता है, जब युवाशक्ति उसके लिए खड़ी हो जाती है. अन्ना के अनशन से जुड़े सवालों से कारवां बढता गया और आमजन जुड़ता गया और युवाओं ने सबसे ज्यादा भागीदारी निभाकर दिखा दिया कि अगर मशाल सही हाथों में हो तो आन्दोलन की सफलता पर कोई संदेह नहीं हो सकता. सरकार पहली बार कदम दर कदम, मोके-बे-मोके बदलती देखी गयी. सत्ता जिन लोगों के हाथ में थी, जनता महसूस कर रही थी कि वे सख्ती से जनता की आवाज़ बंद करने के मंसूबे पाले हुए थे और दूसरी तरफ जनता जबरन उनको अपनी आवाज़ सुनाना चाहती थी. अन्ना दल की सदारत में जनता अपनी आवाज संसद तक पहुँचाने में कामयाब हुई. भ्रष्टाचार, बेकाबू महंगाई, घोटाला संस्कृति, रिश्वतखोरी आदि को ब्रेक लगाने में देश के अनेक दलों की सत्ताएं आयीं, लेकिन नाकाम रही. उनके भीतर इन समस्याओं से लड़ने का जनून और जज्बा दिखाई नहीं दिया. यह अलग बात है कि कुछ लोगों में अपने मंसूबे के मुताबिक सत्ता के नाम पर धन एकता करने का जज्बा जरूर दिखाई दिया और उन्होंने इस मामले में आशातीत सफलता भी पायी. कुछ जिम्मेदार लोग व्यवस्था के नाम पर थोड़े-बहुत जूझे, पर उनके प्रयास ऊंट के मुहँ में जीरा साबित हुए. देश की जनता के सामने खलबली मचानेवाला यक्ष प्रश्न यह है कि जो लोग देश चलने या राजनीति करने का दंभ भरते हैं, वे इन समस्याओं के सामने लाचार और नतमस्तक क्यों हैं? संसद में चर्चा के दौरान कुछ सिरफिरी सोचवाले लोगों ने आन्दोलन के रहनुमाई करनेवाले लोगों के प्रतिनिधित्व पर सवाल खड़े करते हुए बेशर्मीभरे लहजे में कहा कि ये लोग जनप्रतिनिधि नहीं हैं, पर उनसे कोई सवाल पूछे कि वे जनप्रतिनिधि होने का दंभ भरते हैं, तो जनता की आवाज क्यों नहीं सुन पाए? दरअसल वे आवाज इसलिए नहीं सुनते कि ऐसी आवाज उनके हितों के खिलाफ है? भ्रष्टाचार का आलम अगर उन्हें राजनीति में दिखाई नहीं देता या वे उसपर अंकुश लगाने के लिए उदासीनता बरतते हैं तो या तो वे लाचार और बेबस हैं या फिर उससे उनका पोषण हो रहा है. ऐसे लोग देश को क्या दिशा दे पाएंगे, यह सब जनता के सामने है? ऊपर से संसद की गरिमा को ठेस पहुँचाने के लिए जनता के आन्दोलन को दोषी बताते हैं. क्या ऐसे लोगों ने अपने गिरेबान में झाँका है कि ऐसे लोगों ने खुद संसद कि गरिमा देश के सामने स्थापित करने के लिए कितना योगदान दिया है? संसद में गरिमा तार-तार होते देखने में या तार-तार करनेवालों के खिलाफ बहुत ही कम लोग उसको बचाने में सामने आये हैं, जो निस्संदेह सम्मान के पात्र है. लोकतंत्र में जनप्रतिनिधियों को देश के हितों के खिलाफ काम करने की छूट नहीं दी जा सकती और न ही जनता जिन बातों को लेकर परेशान है, उनकी अनदेखी करके अपने हित साधने का अवसर देती है! सवाल ये है कि राजनीति में कितने लोग हैं जो गलत काम करने वालों के खिलाफ अलख जागते हैं या ऐसे लोगों को शरण नहीं देते? देश को बाहरी दुश्मनों से इतना खतरा नहीं है जितना हमारे देश के भीतर मिलीभगत का अजीब खेल आज हमारे देश की शासन व्यवस्था में चल रहा है. धनबल और बाहुबल के बीच अलिखित समझोता हो गया है, जिसका परिणाम देश और ईमानदार जनता को भुगतना पड़ रहा है. अब जागने का समय है, ललकार का वक्त है, झकझोरने की बेला दरवाजे पर दस्तक दे रही है, देश के लिए कुछ काम करने की चुनौती हमारे सामने है, हम उसके लिए कितना सुनते हैं, योगदान देते है, या इसके विपरीत जगानेवालों के खिलाफ कार्रवाई करते हैं? क्यूंकि अन्ना दल और बाबा रामदेव के खिलाफ दर्ज होते मामले ऐसी ही याद दिला रहे हैं. अब देश के अस्तित्व की रखवाली का भार हमारे कंधो पर है कि क्या आज़ादी के लडाई में अपने प्राणों के आहुति देने वाले हमारे पुरखों की आवाज़ के साथ हम खिलवाड़ होने देंगे, जिन्होंने विदेशी हुकूमत की जंजीरों को तोड़कर हमारे देश और समाज के लिए सपने संजोये थे? हमारे सामने परिवर्तन की ललकार है, बदलाव के आंधी है, अगर हम उसकी आवाज़ को नहीं सुनेंगे तो हमें देश, समाज और आनेवाली पीदियाँ कभी नहीं बख्शेंगी. हमें अपने गिरते मूल्यों को बचाना होगा, तभी हम बचेंगे, समाज बचेगा, देश बचेगा और आनेवाली पीदियों को कुछ अच्छी विरासत सोंप पाएंगे. Rajendra Prasad, Mehrouli, नई दिल्ली, rpvats2@gmail.com

के द्वारा:

भ्रष्टाचार को लेकर पिछले दिनों सरकार और राजनीतिक दलों में उथल-पुथल मची. जिन्होंने आपातकाल के 'जयप्रकाश आन्दोलन' को नहीं देखा, उन्हें 'अन्ना' के आन्दोलन को देखने से पहले लगा कि देश में गलत कामों को रोकने वाला कोई नहीं है और न ही भ्रष्टाचार-कदाचार को लेकर राष्ट्रीय बहस/आन्दोलन शायद ही खड़ा करने का साहस कोई करे. अन्ना ने इस मिथक को तोड़ने का गंभीर साहस किया गांधीगिरी के सहारे. आन्दोलन खड़ा करने की असफल कोशिश बाबा रामदेव ने भी की, लेकिन उसे पंचर कर दिया सरकार की साजिशी चतुराई ने. अन्ना के आन्दोलन की बेदखली की जीतोड़ कोशिश हुई. लेकिन सत्ता के रणनीतिकारों की बिसात उखर गयी. उडती चिड़िया पहचाननेवाले नेता जनता का आक्रोश नहीं समझ पाए, लेकिन जनता ने आवाज़ सुनाने को बाध्य किया. संसद की गरिमा कम करने के बेतुके आरोप लगाकर क्या संसद में बैठे राजनेता देश को बता पाएंगे कि उनके बीच अपराधी और भ्रष्टाचारी कैसे पहुंचे, इसमें वो विफल हैं या जनता. संसद की गरिमा जितनी राजनेताओं ने कम की, उतनी किसी ने नहीं.

के द्वारा:

सृष्टि के आरम्भ से ही मानव-विचारों का आदान-प्रदान अभिव्यक्ति से होता है. अभिव्यक्ति को प्रकट करने का सबसे प्रबल और असरकारी रूप कोई भी 'भाषा' नहीं बल्कि मात्र 'मातृभाषा' होती है. इतिहास हमें बारम्बार झकझोरता है कि हमारे देश ने गुलामी झेली, उसके जंजीरें एक लम्बे संघर्ष और हमारे पूर्वजों के अनगिनत त्याग और बालिदानों के बाद कटी, लेकिन गंभीरता से सोचने का क्या अब तक उचित समय नहीं आया है कि हम आजादी के छः दशक बीत जाने पर आज भी 'अंग्रेजी' गुलामी का जो कलंक 'ढ़ो' रहे हैं, क्या उसे 'ढ़ोने' की बजाय 'धोने' की जरूरत नहीं है? मातृभाषा से अभिव्यक्ति की सम्पूर्णता प्राप्त होती है और सामाजिक व आर्थिक परिवेश के साथ-साथ संस्कार और संस्कृति पर भी उसका दूरगामी प्रभाव पड़ता है. उथल-पुथल मचने वाला तथ्य यह भी है कि वर्तमान में सबसे ज्यादा गिरावट मातृभाषा की हुई है, तभी उसके परिणामस्वरूप हमारे संस्कार गिरे हैं, नैतिकता ह्रास हुई और संस्कृति को चोट पहुंची है. मातृभाषा और अपने देश की माटी से उत्पन्न भाषाओँ के मर्म को समझे बिना 'जनता की वाणी' नहीं समझी जा सकती. वैज्ञानिक दृष्टि से भी देखें तो ज्ञात होता है कि मन-मस्तिष्क में विचार की झलक सर्वप्रथम मातृभाषा से ही होती है. सुख-दुःख में आह भी अपनी ही भाषा में निकलती है. इन सब तथ्यों के बावजूद अंग्रेजी का वजूद कम होने की बजाय बढ़ा है. खलबली मचने के लिए ये काफी है कि हमारी पढ़ाई, न्याय, शासन और अर्थार्जन की भाषा 'अंग्रेजी' बना दे गयी तो देशभक्ति कमजोर हुई, हमारे शिक्षा प्राप्त करनेवाले नौनिहालों पर अपने भाषा की बजाय अंग्रेजी का प्रभाव बढ़ा. वातावरण का पश्चिमीकरण हुआ, भ्रष्टाचार बढ़ा, ईमानदारी तिरस्कृत हुई, नैतिकता की जड़े खोखली के गयी, लोकतंत्र पर 'अंग्रेजी मानसिकता' छाई और तो और अंग्रेजी भारी पड़ने से हमारे देश की भाषाएँ परायी हुई, ऐसे में हमारे पास क्या बच रहा है, यह बताना मुश्किल है. आज के वातावरण में सच्चाई से रूबरू करते ये शब्द ललकारते हैं : हिंदी या हमारी मातृभाषा दौड़ी वहां जहाँ जन-जन था, फिर क्यों अंग्रेजी कर रही उसकी सिंह सवारी. यहीं तो अपनों की आयाती अंग्रेजी का गम था, तभी तो किस्ती वहां डूबी जहाँ पानी कम था. -राजेंद्र प्रसाद, महरौली, नई दिल्ली-30

के द्वारा:

अन्ना की ३ मांगो को सरकार को मानना ही पड़ा और इस जीत में अभी हमें अधिक खुश नहीं होना चाहिए. लोकपाल विधेयक पिछले ४० सालो से संसद में अटका पड़ा था और जब जब किसी पार्टी ने भी इस बिल को पास करवाने का प्रयास किया तो उस समय उस सरकार का पतन हुआ क्योको लोकपाल बनाने में सदा ही सांसदों के लिए एक खतरा था जो कभी भी उनपर कहर बनकर टूट सकता था. किन्तु जब अब अन्ना हजारे विशाल जन समर्थन के साथ लोकपाल मसोदे की मांग को लेकर अनशन पर बैठ गए तब कही जाकर सरकार इस मसौदे की ३ शर्तो पर राजी हुई लेकिन अन्ना द्वारा उठाई गई ७ शर्ते भ्रस्ताचार की जड़ो तक को हिला देने के लिए काफी थी. किन्तु जैसे की सरकार पिछले ४० सालो से ही लोकपाल बनाने के मन में नहीं थी, इसीलिए उन्होंने लोकपाल मसौदे की उन बाकी बची ४ मांगो के बारे में मौन साध लिया जिससे सांसदों और उच्च वर्ग के भ्र्स्ताचारियो की गर्दने फसती थी. इसलिए अन्ना की भ्रस्ताचार की जंग अभी समाप्त नहीं हुई है बल्कि यह तो युद्ध का अभी बिगुल ही बजा है जिसकी जंग अभी बाकी है और भ्रष्टाचार के विरुद्ध एक लम्बी लड़ाई लड़नी अभी बाकी है. http://singh.jagranjunction.com/2011/08/27/%E0%A4%95%E0%A5%88%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%B9%E0%A5%8B%E0%A4%97%E0%A4%BE-%E0%A4%AD%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%9F%E0%A4%BE%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B0-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%85/

के द्वारा: Amar Singh Amar Singh

प्रिय हरीश जी, आपकी अन्य सभी बातों से पूर्ण सहमती जताते हुए आपकी इस बात पर अपनी विनम्र असहमति जताना चाहता हूँ कि विपक्ष भी अन्ना के साथ है! दरअसल, विपक्ष का अन्ना के साथ खड़ा होना सिर्फ उपरी तौर पर दिखाई देता ताकि अन्ना के साथ उमड़ी अपार जनसमूह की भावनाओं को अपने वोट बैंक के रूप में मोड़ सकें! सच तो यह है कि जन लोकपाल किसी भी राजनेता को पसंद नहीं, क्योंकि ये नहीं चाहते कि इस देश को मनचाहे तरीके से लूटने के इनके विशेषाधिकार को कोई अडंगा लगाये! बाहर में ये जनभावनाओं के साथ होने का छलावा करते हैं और एक दुसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगते हैं किन्तु स्वहित के मुद्दे पर ये सभी एक ही थैली के चट्टे बट्टे हैं! जन लोकपाल के मुद्दे पर लगभग सारे राजनेता, चाहे वो किसी भी दल के हों, आंतरिक रूप से एकमत हैं - वो ये कि किसी तरह इस जन लोकपाल को टालो या दबा दो ताकि दोबारा इस देश में कोई अन्ना पैदा होकर फिर से इनके भ्रष्टाचार को जन जन के बीच उजागर करने का साहस न कर सके और इसके किये किसी सख्त कानून की वकालत न करें! बस, इनका भ्रष्टाचार निर्वाध रूप से चलते रहना चाहिए!

के द्वारा:

आज कल हमारे देश में एक नयी लहर चल रही है उसको देख कर अच्छा लगता है की हिंदुस्तान में लोग अब चाहते है की बेईमानी समाप्त हो, ये अच्छी बात है और हो भी क्यूँ नहीं आखिर आज हमारा देश अगर किसी वजह से पीछे हे तो उसका कारण सिर्फ लोगो के अन्दर जो बेईमानी है वो ही उसका मुख्य कारण है| आज हर कोई बोलता है की सरकार को अन्ना हजारे की बात मान लेना चाहिए और सालों से फाइल में बंद " जन लोकपाल विधेयक " को अमल में लाना चाहिए| मेरी अपनी राय है की इस देश में अच्छे कानूनों की कमी नहीं है, कमी है हमारी जो हम उसको सही से अमल नहीं करते, क्या " जन लोकपाल विधेयक " पास हो जाने से देश से बेईमानी समाप्त हो जाएगी? मुझे नहीं लगता की ऐसा हो सकता हे? क्या कमी थी मुख्य सतर्कता आयुक्त के पद में पर जब उस पद पर ही एक ऐसा आदमी हो जो खुद ही दोषी हो तो उससे ये उम्मीद कैसे की जाएगी की वो और लोगो को रही राह दिखा सकेगा, जरुरत किसी कानून की नहीं जरुरत है हमको खुद को बदलने की, जरुरत है हमारी सोच को बदलने की, आज अन्ना हजारे के साथ देश की १२० करोड़ की आबादी में से कम से कम १२ करोड़ लोग तो साथ है, और चाहते है की देश से बेईमानी का रोग समाप्त हो जाये, तो उसको लिए उनको न किसी जन लोकपाल की जरुरत है न किसी अन्य पद की जो देश से बेईमानी को हटाने के लिए बनाया जाये, अगर देश के १२ करोड़ लोग ने ये सोच लिया, तो तो खुद बेईमानी करना है ना बेईमानी करने वाले का साथ ही देना है तो अंदाज़ लगाइए इसका असर कितने लोगो पर होगा, अगर अन्ना हजारे की आवाज़ में आवाज़ मिलाने वाले लोग खुद ईमानदारी का रास्ता अपनालेंगे तो खुद इस देश से बेईमानी नहीं बचेगी क्यूनी हर आदमी कम से कम ५ आदमी को बदल सकता हे तो इस तरीके से ६० करोड़ लोग ईमानदारी के रस्ते पर चलेंगे तो बाकी के लोग अपने आप उसी रास्ते पर जायेंगे जिस पर बहुमत चल रहा है, आज हमारी सोच ये हो गयी है की दुसरे लोग जो बेईमानी करते है वो गलत है पर में जो करता हू वो बेईमानी नहीं है, नहीं बेईमानी बेईमानी ही हे चाहे आप छोटा करे या बड़ा, अगर हमको हमको मौका मिलेगा तो हम १ रूपया बचाने के लिए डी. टी. सी. की बस में कोशिश करेंगे की या तो टिकिट ही ना ले या एक स्टॉप के बाद अगर ८ रुपये की जगह ६ रुपये का टिकिट लगता है तो ६ का टिकिट ले, क्यूँ ? क्या ये बेईमानी नहीं है? क्या अन्ना हजारे के साथ ईमानदारी की वकालत करने वाले लोग ये कह सकते हे की आज तक उन्होंने आज तक कोई बेईमानी नहीं किया, मुझे नहीं लगता की जितने लोग अन्ना हजारे के साथ हे उसका १% भी ऐसे होंगे, अपनी खुद की तो मैं ये बोल सकता हूँ की कई बार पहले से ट्रेन टिकिट नहीं होने के कारण बिना टिकिट ही ट्रेन में सफ़र किया या अन्दर टी. टी. से बोल कर या कुछ ले दे कर जहाँ तक जाना था चले गए, अब ये भी बेईमानी ही है, सिग्नल तोडा और अगर पुलिस का आदमी ने पकड़ा तो हम अपनी तरफ से तुरंत ही अपना चालान कटवाने की जगह कुछ देकर ही मामला ख़त्म करने की कोशिश करते है, क्या ये बेईमानी नहीं है? आज नए भारत के युवा बहुत आगे हे इस मुहीम में की देश में से बेईमानी मिटे, पर अपने परीक्षा के समय ज्यादातर या तो किस प्रोफ़ेसर ने पेपर बनाया है उससे पेपर पता करने में लगते है ये पेपर के बाद कैसे नंबर ज्यादा लाये जाये वो पता करने में, क्या ये बेईमानी नहीं है? हमारे पास खाने के लिए नहीं है इसलिए हम ये बोले की हम व्रत कर रहे है ये सही नहीं है, व्रत तब होता है जब हम खा सकते है और इसलिए नहीं खा रहे की हमारा व्रत है, तो अगर बेईमानी करने का मोका नहीं मिला इसलिए आप नहीं कर पाए तो आप अपने को ईमानदार बोलते है तो सही नहीं है, आप ईमानदार तब है जब आपको मोका मिला और आपने बेईमानी नहीं किया, आज जरुरत ना तो किसी जन लोकपाल की है ना किसी और की जरुरत है अपने आप को और अपनी सोच को बदलने की, आज जरुरत है श्री राम शर्मा "गायत्री तपोभूमि" के उस बात को अपनाये " हम सुधरेंगे युग सुधरेगा, हम बदलेंगे युग बदलेगा" आज अगर अन्ना हजारे के साथ खड़े लोग ही ये शपथ ले ले की ना तो बेईमानी करेंगे ना बेईमानी सहेंगे, तो बेईमानी अपने आप इस देश से भाग जाएगी, हमको इसके लिए किसी जन लोकपाल की जरुरत नहीं, कोई जन लोकपाल हमारे अन्दर की बेईमानी को नहीं मिटा सकता उसको सिर्फ हम खुद मिटा सकते है. इसलिए खुद को जन लोकपाल बनाने की जरुरत है, किसी और को नहीं. अभिषेक दत्त चतुर्वेदी दुबई - सयुक्त अरब अमीरात

के द्वारा:

के द्वारा:

प्रिय श्री हरीश जी कल से इस पोस्ट को कई बार पढ़ा , मै शरू से ही आपकी रचनाओ को पढता रहा हु ,| मुझे लिखते हुए भी काफी समय हो गया है | कभी कभी तो कुछ लिखने के बाद दूसरी रचना के बीच का अन्तराल महीनो रहा है | डायरी में लिखने का फायदा यह होता था की उसी रचना को मै कई कई बार दुहरा देता था पर ब्लॉग में यह संभव नहीं | मै आपसे यही कहना चाहता हु की कई बार हमारी अपनी समस्याए/व्यस्तताए लेखन के क्रम को रोक देती है| लेकिन यह स्थिति लम्बे समय तक कायम नहीं रहती | आपकी संवेदना ,सहजता व समाज के लिए कुछ करने का जज्बा मुझे बहुत प्रिय है | यही वह भाव है की आपका व्यक्तित्व मुझे दुसरो से अलग दिखता है | यह इमानदार व सार्थक पहल एक दिन अपने मुकाम तक जरुर पहुचेगी ,इसका पूर्ण बिश्वाश है | आशा है आप पूर्व की तरह अपने ब्लाग को पढने अवसर हमें देते रहेगे | हार्दिक शुभ कामनाये |

के द्वारा:

आदरणीय हरीश भट्ट जी नमस्कार -सुन्दर और सार्थक विषय जीने पर तो किसी ने कदर न की निगमानंद जी की घर गाँव वाले भूले पड़े और आज परिवार , राजनीती और आश्रम सब विवाद में क्रिया कर्म को ले कर -बड़ी ही कुटिल नीति दिखती है समाज में -मुद्दे को समर्थन देना चाहिए यदि अच्छा है तो व्यक्तिगत स्वार्थ से उठकर -बाद में मूक ही हो जाएँ तो ठीक होता है -अब सब ढोल पीट रहे हैं -- बहुत ही खामोशी से वह अपने लक्ष्य की ओर बढ़ रहे थे कि इंसानियत भूल चुके इंसानों ने उनको उस चक्रव्यूह में फंसा लिया, जहां पर वह मर कर भी चैन नहीं ले पा रहे है. अब क्योंकि वह संन्यासी बनकर जीवन-यापन कर रहे थे. तब ऐसे में उनके पार्थिव-शरीर को संन्यासी .. बधाई हो सुन्दर आलेख पर शुक्ल भ्रमर ५

के द्वारा: surendra shukla bhramar5 surendra shukla bhramar5

के द्वारा:

एक जँगल में एक खरगोश बहुत तेजी से भागा जा रहा था । उसके पीछे तमाम जानवर भागे जा रहे थे । सन्यासी ने पीछे वाले से पूछा- क्या हुआ, कहाँ भागे जा रहे हो । उस जानवर ने दौड़ते हुए ही जवाब दिया- आगे वाले से पूछो । उसके आगे वाले ने जवाब दिया- आगे वाले से पूछो । सन्यासी हाँफते- दौड़ते सबसे आगे  खरगोश के पास पहुँचे  । सन्यासी ने  पूछा- क्या हुआ, क्यों  भागे जा रहे हो । खरगोश रुक गया । बोला- क्या बतायें । मैं बेल के पेड़ के नीचे सोया था। अचानक एक बेल मेरे सिर पर गिर गया । मेरा दिमाग भन्ना गया और मैं भागने लगा । लेकिन बाबा- ये बाकी जानवर क्यों भाग रहे हैं । बाबा ने कहा- यहीं दुनिया की रीत है । इसमें तुम्हारा कसूर नहीं है ।

के द्वारा:

मेरी प्रतिक्रिया निम्न शब्दॊ मे व्यक्त है-  आ नीचे आ ऊपरवाले अवलॊक जरा,  हॊ विकल महीवासी कैसे चिल्लाते हैं ।  सानवता की छाती फटकर दॊ टूक हुइ,  असुरो के सेवक राग बिलावल गाते है ।  है शुष्क जलधि अब ज्वार नही इनमे आता, है भग्न हृदय अब प्यार नही इनमे  आता । बेबस  अबलाये    राह  तुम्हारी  तकती   है, सहमी सिकुड़ी बैठी कर ही क्या सकती है । बच्चों को अपनी सूखी छाती से लपेट, निर्वस्त्र देह अपनी करयुग्मोँ मेँ समेट । जाड़े-पाले की कसक सदा वे सहती हैँ, फिर भी रहती चुपचाप नहीँ कुछ कहती हैँ । नरमुण्डोँ के व्यापारी बोली बोल रहे, निकलेगा कितना माँस नेत्र से तौल रहे । मन्दिरों-मस्जिदों-गुरुद्वारो मे ये जाते, धर्मो के कौतुक नये नये है दिखलाते । लप-लप करती जिह्वा आँखो को लाल किये, मासूम-बेबसों का निशदिन ये रक्त पियें । तृष्णा इन नरपशुऒं की बढती ही जाये, युवकों के मन में जोश नहीं फिर भी आये । ऊपरवाले वीभत्स बना है बाग जला, नर के उर में प्रतिहिंसा की वह आग जला । तुझको पुकारते मनुज सहित आकाश-धरा, सुन, आमन्त्रण में इनके कितना दर्द भरा । विषदन्त व्याल के तोड़ सृजन में आ जा तू, अर्जुन को गीता का उपदेश सुना जा तू । तू देख नहीं चुपचाप बैठकर मेघों पर, हो शान्ति यहाँ, ऊपरवाले कुछ ऐसा कर ।                          -----डा0 शशिभूषण

के द्वारा:

राष्ट्र को आज चाणक्य की जरूरत है. बाबा रामदेव को चाणक्य बनने का प्रयास करना चाहिए न कि चन्द्रगुप्त. किन्तु चाणक्य बनने के लिए सिर्फ लक्ष्य का ध्यान होन चाहिए न कि उसके बाद मिलने वाले सम्मान का. रामदेव बाबा सम्मान की प्राप्ति का प्रयास कर रहे हैं और संभतः इसीलिए उनको सफलता प्राप्त नहीं हो पा रही है. इसमे कोई दो राय नहीं है की बाबा रामदेव भ्रष्टाचार के विरुद्ध आन्दोलन में परिपक्वता नहीं दिखा रहे हैं. उनके पीछे जो करोणों की संपत्ति है वो भी उनके सामाजिक कार्य में बाधा दाल रही है. उनके इरादों पे संदेह इसलिए भी होता है क्योंकि उन्होने अपने को गिरफ्तार होते समय तमाम प्रकार के नाटक किये. परन्तु ये सभी तर्क केंद्र सरकार को शांति से सोते हुई जनता तो बलपूर्वक डराने का अधिकार नहीं देते.जो भी सरकार ने रामलीला मैदान में रात को एक बजे किया, वो बेहद शर्मनाक एंड कायरता पूर्ण कदम था. अब वो समय आ गया है जब जनता तो समझाना चाहिए के राजनितिक पार्टियां भ्रष्टाचार के विरुद्ध कुछ भी करने को तैयार नहीं हैं. हर शिक्षित और समझदार व्यक्ति को आन्दोलन का भाग बनना ही होगा , अन्यथा व्यर्थ की अंग्रेजी बहस करने का कोई फायदा नहीं है. मध्यम वर्ग समाज में सुधार तो देखना चाहता है पर इस आन्दोलन में प्रतिभागी नहीं बनना चाहता. समाज को सुधारने के लिए मध्यम वर्ग को खुद भी सुधारना होगा. हमे छोटे मोटे भ्रष्टाचार को अपनी आवश्यकता अनुसार व्यवहारिक बता के चैन की नीद सोना चाहते हैं और दूसरों के और ऊँगली उठाने में ज्यादा विशवास करते हैं. हम यदि समाज का पथ प्रदर्शक नहीं बन सकते तो क्या, अन्ना जी का समर्थन तो कर सकते हैं. हर नेता में कुछ कमियाँ होती हैं और अन्ना में भी होंगी. लोगों ने तो गाँधी जी में भी गलती निकालने के लिए शोध किये हुए हैं. किन्तु हमे इन समाज सुधारकों के बडे लक्ष्य को समर्थन देते हुए राष्ट्र निर्माण में सहयोग देना चाहिए. जय भारत !!

के द्वारा:

के द्वारा:

आदरणीय हरीश जी नमस्कार सार्थक लेख बचपन में ही हम अगर थोडा जागरूक हो जाएँ या हमारे संरक्षक हमें समझा सकें तो बात ही कुछ दीगर हो जाये बहुत सी हमारी समस्याएं तो खत्म ही हो जाएँ क्योंकि उदासी हो , हिंसा हो ,भ्रस्टाचार हो, स्वस्थ प्रतियोगिता हो, नीति या स्वस्थ राज नीति हो -सब एक कील की तरह हमारे बचपन रूपी पौधे में घुस जाती है जो आजीवन हमारे साथ रहती है -सच कहा आप ने असफलता से घबराएँ नहीं उदास न हो -चींटी सा प्रयत्न करते बढ़ते रहें -ऊँचाई चढ़ते रहें बधाई हो सुन्दर भाव भरे आलेख के लिए - उन्होंने तो ठान रखा है कि कुछ करना ही नहीं है, जैसा चल रहा है, वैसा ही चलता रहे, आप कितना भी उस माहौल से बचना चाहे, आप नहीं बच सकते, बस यही एक छोटी सी बात आपकी जिंदगी में उदासी का माहौल

के द्वारा: shuklabhramar5 shuklabhramar5

आदरणीय हरीश जी ....सादर प्रणाम ! मेरी आदत है कि मैं किसी कि निजी जिंदगी से इस बाबत कोई मतलब नहीं रखता हूँ कि कौन किस को मानता है , जब तक कि वोह मेरे धर्म के बारे में अपनी मर्यादा का उल्लंघन नहीं करता है .... पता नहीं कि जागरण के विद्वानों ने इस मुददे पर बहस क्यों छेड दी है और अनावश्यक रूप से इसको विवाद का रूप दे दिया है ..... मेरी राय में तो इस बात पर जागरण के पाठकों कि राय पहले ले लेनी चाहिए कि वोह अमुक विषय को बहस के लायक समझते है भी कि नहीं ? क्या अमुक विषय पर बहस होनी भी चाहिए ? इस एक मुददे से बहुतो का विश्वाश जागरण मंच से डांवाडोल हुआ है ....... माफ़ी चाहूँगा अगर सच्चाई कहते कुछेक कड़वी बाते कह गया हूँ ..... धनुवाद

के द्वारा: Rajkamal Sharma Rajkamal Sharma

आदरणीय हरीश जी, सादर नमस्कार, सत्य सांई बाबा पर आपके विचार और उनके साथ जुड़ रहे तामाम आरोपों और आक्षेपों पर आपकी राय पढ़कर ऐसा लगा जैसे पत्रकारिता अभी भी सत्य का उदघाटन करने के साथ जनमानस की भावनाओं को समझती है और उसका सम्मान भी करती है. आपकी लिखी हर लाइन हर उस व्यक्ति को आत्म मंथन करने पर विवश करेगी जी द्वेषवश या फिर उनके ट्रस्ट में एकत्रित धन को देख ईर्ष्यावश अमर्यादित छींटाकशी कर रहे है. लेख की अंतिम लाइन इस चर्चा को एक बेहतर निष्कर्ष दे रही है, 'क्योंकि जब उसने आपको बाबा के प्रति श्रद्धा रखने के लिए नहीं कहा तो आप कौन होते है उन पर आरोप लगाने वाले कि वह भगवान थे या इंसान.' अच्छी पोस्ट पर बधाई स्वीकार करें !

के द्वारा: chaatak chaatak

के द्वारा:

स्नेही श्री हरीश जी, सादर अभिवादन, अन्ना ने जिस जागृति को जन्म दिया है उसे ऐसे लोग ही ईंधन प्रदान कर पायेंगे जो किसी भी स्तर पर हो रहे भ्रष्टाचार से स्वयं आगे बढ़कर लड़ने का माद्दा रखते हैं अन्ना ने राह दिखा दी है लेकिन हमें दयां रखना है कि कहीं गांधी जी की तरह अन्ना को भी हम एक मात्र मुखिया मानकर इस मुहिम को अन्ना तक ही सीमित न कर दें हमें यदि गांधी जी के बाद आन्दोलन को अपने हाथों में लिया होता और किसी एक नेता का इन्जार न करते रहते तो ६३ साल में इतना भ्रष्टाचार न पनपता हमें एक इकाई के रूप में भी वही काम करना है जो अन्ना कर रहे हैं| पार्वती जी का उदाहरण अनुकरणीय है| अच्छी पोस्ट द्वारा जागृति लाने पर आपको कोटिशः धन्यवाद!

के द्वारा: chaatak chaatak

मैं आपको अपने ब्लॉग मुंशी प्रेमचंद का नमक का दरोगा आजका अन्ना हजारे का जिक्र करना चाहूँगा | ये सौ दो सौ रूपये वाली रिश्वत हालाँकि किसी प्रकार से जायज नहीं है पर | ब्लॉग पर मोजूद यह मध्य वर्ग समाज आज एक हाथ रिश्वत ले रहा है व् दुसरे हाथ ले भी रहा है | किसी जेकतरे को जब सरे आम पकड़ लिया जाता है तो कभी कभी पब्लिक मार मार कर जान लेलेती है | यह मध्य वर्ग्य आपसी संघर्ष में फंसे रहते है | मध्य वर्ग एक तरह सारे रीत रिवाज़ मोरल को धोता रहता है | वह अपने घर के टूटने बिगड़ने को सहन नहीं कर सकता | उसका सारा समय अपने आस पास के अपने हैसियत के लोगों को सीधा करने में निकल जाता है | डाक्टर शायद समाज के उस वर्ग से आता है जो सबसे कड़े परीक्षा व् सबसे कठिन पाठ्यक्रम के बाद जब असली जीवन में प्रवेश करता है तो तो पी डब्लू डी के सुपर बयजर के भ्रष्ट आचरण से पैदा अकूत दौलत देखकर अपने को कोसता है | ऊपर के प्रकरण में जो डाक्टर बरखास्त किया गया वह खुद भी खुश हुआ होगा क्योंकि जिस सी एम् ओ ने उसे पकड़ा वाही उससे किसी बहाने से रिश्वत ले रहा हो और यह गंगोत्री सीधे विभाग के मंत्री मुख्या मंत्री तक जाती हो | कुछ समय ये अंदरूनी एक दुसरे को काटना छोड़कर सबसे ऊपर फैले भ्रीष्टाचार जसने दर्जनों आर टी आई को खा लिया उनसे जनता भिड जाये | अपने को सुधरने का सिद्धांत उसी तरह कि यदि हिंदुस्तान में सभी शिक्षित हो तो जम्न्संख्या अपने आप कम हो जाएगी | यह सब तो जन्मों का शगल हो जायेगा | भ्रीष्टाचार के बारे में मेरे अपने विचारहै | इसे हटाने वालों के इरादे इतने मजबूत करे इनके असली घडियालों को भी कभी शिकार बनाये | ऐसा न हो उन्हें अपने शो रूम का उद्घाटन करा कर सबसे कहते फिरें फलाँ मंत्री आया था www.jrajeev.jagranjunction.com

के द्वारा: RaJ RaJ

आदरणीय हरीश जी .... सादर प्रणाम ! आपने शायद अन्ना जी का आज का बयान नहीं पढ़ा जिसमे कि उन्होंने खुद को उन सियासतदानों से दूर रखने का प्रयास करने कि बात कही है जोकि उनका फायदा उठाते हुए उनका इस्तेमाल कर सकते है .... राजनीति एक काजल कि कोठरी है इस कि कालिख से कोई भी नहीं बच पाया है ..... एक बार मेरे किसी परिचित का एक पत्रकार दोस्त जब काफी दिनों के बाद मिला तो वोह उसको उलाहना देने लगा कि यार तू कैसा दोस्त है , तुझ पर इतनी बड़ी मुसीबत आई और तुने मुझको बताना भी जरूरू नहीं समझा , तू आधी रात को फोन करेगा तो मेरी जान भी हाज़िर है ..... उस पत्रकार ने तो समझा था कि वोह केस खत्म हो गया है, लेकिन जब मेरे दोस्त ने गुस्से में पलट कर कहा कि अब कौन सा केस खत्म हो गया है , जो उस समय करना था वोह अब कर दे .... भगवन कसम आप यकीं नहीं मानेंगे कि नाभा शहर का वोह पत्रकार सर पर पावं रख कर ऐसा भागा कि फिर दुबारा कभी नहीं आया ..... आपने अपने लेख में इस विषय को छुआ तो मुझको भी यह पुराणी बात याद आ गई ..... आपकी शंकाए निर्मूल है बस इतना ही कह सकता हूँ .... धन्यवाद

के द्वारा: Rajkamal Sharma Rajkamal Sharma

भट्ट साहब , इस भ्रष्टाचार की जड़ें बहुत गहरी व दूर -दूर तक फैली हुईं हैं बस अंतर है तो केवल इतना कि कोई छोटा भ्रष्टाचारी है और कोई बड़ा भ्रष्टाचारी कोई लो प्रोफाइल चोर है तो कोई हाई प्रोफाइल चोर अब आप चेकोस्लाविया के राष्ट्रपति को ही देखें वह तो बड़े ही हाईप्रोफाइल पेन चोर निकले अब वह अपने बच्चों को क्या सिखायेंगे उनकी यह हरकत तो मीडिया में भी आ गयी और पूरे संसार ने उन्हें चोरी करते हुए देखा....! जब तक स्वयं पर नियंत्रण नहीं होगा ईमानदारी व इंसानियत नहीं होगी इसकी जड़ें और भी गहरी होती जायेंगी इसलिए हमें अपना आकलन स्वयं ही करना होगा कि हम जो कर रहे हैं क्या वह सही है.......? बहुत ही अच्छी व सार्थक पोस्ट !

के द्वारा:

भ्रष्टाचार की आग में तो पूरा देश सालों से जल रहा है, पर कभी किसी ने आवाज उठाई भी तो उस आवाज को हमेशा के लिए चुप करा दिया गया. लेकिन अन्ना ने इस बार भ्रष्टाचार को जलाने के लिए जिस हवन कुंड रूपी आंदोलन की शुरूआत की है, उसमे आहुति देने के लिए आदरणीय हरीश जी बहुत सुन्दर सार्थक लेख नेतृत्व की जरुरत होती है न ,अन्य कोई भय वश कार्य वश ,कुछ पेट की रोटी में लगे होने के कारण तथा अन्य कई कारणवश सामने नहीं आ पाते , आज जब कोई स्वच्छ व्यक्तित्व सामने आया तो लोग बढे यही क्या कम है अब देखना ही कानून का रूप उसका चेहरा और क्या अन्य कानून सा ये भी ठन्डे बसते में धरा रहेगा या कुछ करेगा जो भी हो एक विजयश्री और मिली बधाई हो शुक्ल भ्रमर ५

के द्वारा:

आदरणीय हरीश जी .....सादर प्रणाम ! यह क्या हो रहा है ? जिसे देखो बिना रायल्टी के मेरा नाम अपने लेख में लिए जा रहा है ..... यह माना की हम बहुत ही बदनाम है यारो इसी बदनामी से तो अपना नाम है यारो ***************************************************************************************** हरीश जी ..... अगर दुश्मन आपके सामने हो तो आप उससे दो -२ हाथ कर भी ले .... लेकिन तब आप क्या करेंगे की जब वोह आपके शरीर और रूह में ही प्रवेश कर जाए .... तब आप खुद से ही ना नहीं ना लड़ सकते ..... तब तो किसी सिद्द तांत्रिक +ओझा का ही सहारा लेना पड़ता है ..... अपना खुद का कंट्रोल कोई भी किसी को चाहे या अनचाहे नही दे सकता .... उम्मीद है की आप समझ गए होंगे .... और जब सुरक्षा की बात हो तो आप उसके लिए कुछ भी करेंगे , खासकर के अगर उससे कोई दूसरा भी जुड़ा हुआ हो (net banking ) धन्यवाद

के द्वारा: Rajkamal Sharma Rajkamal Sharma