Harish Bhatt

Just another weblog

324 Posts

1688 comments

Harish Bhatt

Layout Artist- Inext

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2899 postid : 1206128

ये कहाँ आ गए हम

Posted On 16 Jul, 2016 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ये कहाँ आ गए हम
यूँ साथ चलते-चलते….
कभी मरते थे
एक-दूजे पर
आज मार रहे
एक-दूजे को
कभी कहते थे
हिन्दू- मुस्लिम- सिख- ईसाई
आपस में है भाई-भाई
कैसे बदलती है सोच
यह भी देख रहे
गैरों से लड़ते-लड़ते
अपनों से लड़ बैठे
शान्ति की तलाश में
अमन को खो रहे
ये कहाँ आ गए हम
यूँ साथ चलते-चलते….
- Harish Bhatt

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 1.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran