Harish Bhatt

Just another weblog

318 Posts

1687 comments

Harish Bhatt

Layout Artist- Inext

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2899 postid : 1328005

आंतकी घटनाएं और भारतीय सेना का धैर्य

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कभी-कभी लगता है कि भारत सरकार और पाक सेना की गतिविधियों को देखते हुए भारतीय सेना में विद्रोह हो गया तो क्या होगा. जब डॉक्टर, वकील और नेता या किसी अन्य समुदाय में से संबधित की जानलेवा हमले या दुर्घटना में मौत होती है तो हड़ताल का झंडा बुलंद करते हुए सड़के क्या संसद तक जाम कर दी जाती हो. हाल ही में इंडियन एयर लाइन ने नेताजी से पंगे के चलते हड़ताल का बिगुल बजाने के साथ शिवसेना का संसद में हंगामा या लखनऊ में एसटीएफ के छापो के डर से पेट्रोल पम्पों की हड़ताल, बगैर सोचे समझे की आम जनता को कितनी परेशानी होगी. दूसरी ओर एलओसी पर भारतीय सेना के जवानो की मौत या अपने ही देश में कश्मीर में पत्थरबाज़ी की घटनाओं के साथ-साथ नक्सली हमलों में जवानो के मारे जाने की घटना. ऐसे जानलेवा हमलो के चलते यदि भारतीय सेना का धैर्य जवाब दे गया, तब भारत सरकार हमले की निंदा किन शब्दों में करेगी. जब ख़ामोशी में सुलगते अंगारे और दिल ही दिल में सिसकते शहीदों के परिजनों की बददुआ बाहर निकलेगी तब क्या होगा. इसका अंदाजा लगाना भी उतना ही मुश्किल है जितना भारतीय सेना के धैर्य की थाह लेना. फिर कश्मीर के हालत पर काबू पाना इतना आसान होता तो कांग्रेस कब का ये काम पूरा कर चुकी होती. शायद कर भी लेती, क्योंकि कश्मीर समस्या को जन्म देने से लेकर वर्तमान हालत तक पहुंचने में कांग्रेस की महत्वपूर्ण भूमिका रही है. कश्मीर में जिस तरह से युवा पत्थरबाजों के रूप में आतंकियों को बैकअप दे रहे है, वही असल चिंता की बात है. दरअसल किसी भी समस्या के खात्मे के लिए सरकार के साथ-साथ स्थानीय लोगों की भूमिका भी बहुत मायने रखती है. जैसे पंजाब के निवासियों के जज्बे और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी की दृढ़ इच्छाशक्ति के चलते पंजाब से आतंकवाद खत्म हुआ. जो जनता सोच समझ कर आतंकियों का पनाह देती हो, तब कैसे माना जा सकता है कि कश्मीर के युवा राह भटक गए है. सब अपनी जगह पर सही है. जहां गैर कश्मीरियों को लगता है कश्मीर के युवा गलत है. वहीँ कश्मीरी कैसे भारत सरकार पर यकीन करे, जिनको बचपन से भारत का विरोध सिखाया गया है. कश्मीर समस्या को नासूर बनाने के लिए वहां की जनता के साथ राजनेता दोनों जिम्मेदार है. जिन्होंने समय रहते इस दिशा में सकारात्मक कदम उठाने के बजाय सिर्फ अपने अहम की पॉलिटिक्स पर ही ध्यान दिया. आज नासूर बनी कश्मीर समस्या की एक असरदार सर्जरी की जरुरत महसूस की जा रही है. लेकिन इसमें निर्दोष जाने जाने का खतरा है, क्योकि ये डॉक्टर्स की नहीं, इंडियन आर्मी की आतंक के खिलाफ सर्जरी होगी. क्योकि मर्ज जरुरत से ज्यादा पुराना है और ऑपरेशन के आर्डर पेपर पर साइन करने वालों के पास अभी बमुश्किल तीन साल का ही अनुभव है. तब ऐसे में ऑपरेशन से पहले मरीज को भरोसे में थोड़ा वक़्त लगना लाज़मी है.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

harirawat के द्वारा
May 4, 2017

हरीश भट्ट जी नमस्का ! पहली बार आपके सैनिकों के बारे में लेख को पढ़ने का अवसर मिला ! बड़ा असरदार लेख है ! और भी बहुत से लेखक इस समस्या पर अपना आक्रोश को प्रकट कर चुके हैं ! १९४७ में देश आजाद हुआ, सर्व सम्मति से प्रधान मंत्री की कुर्सी बल्ल्भ भाई पटेल को दी जा रही थी, गांधी जी ने छींक मारी और नेहरू पीएम बने ! गांधी जी की जिद्द के आगे पूरी संसद झुकी और पाकिस्तान को ५५ करोड़ और देने पड़े ! उसने उसी पैसे से हथियार खरीदे और काश्मीर पर अटैक किया, उसने दो तिहाई काश्मीर ले लिया था, फिर भारतीय सेना को आदेश मिला काश्मीर बचाने का, इतिहास गवाह सेना ने अपने कही बहुमूस्य रत्न इस लड़ाई में खोए, जब हमारे सैनिक पूरे काश्मीर को हथियाने के रास्ते पर थे पीएम ने सैनिक कमांडर को सीज फायर करने का आदेश दिया और काश्मीर के कलेजे को पीओके बना दिया गया, जो आज कंटीली झाड़ियाँ बन चुका है आतंकियों का अड्डा बन गयाहै ! सुन्दर और आकर्षक लेख भट्ट जी ! जागते रहो पर भी नजर डालें !


topic of the week



latest from jagran